Wednesday, May 20, 2009

बस कुछ यूं ही....

एक-दो दिन में नई गज़ल लगाता हूं तब तक कुछ फ़ुटकर आपके लिये हाज़िर है।


(१)
हाथ पर हाथ धरे, बैठे-बैठे सोचते हैं
दैववश अच्छे दिन, सबके ही आते हैं
भाग्यवादी कायरों की, यही है पहचान कि
बाबा वो मलूकदास, मन को लुभाते हैं
जड़-बुद्धि जनता की, दिशाहीन सोच का जी

अवसरवादी नित, फायदा उठाते हैं
धर्म-धुरंधर और, वाहक परंपरा के
नागपंचमी तो हम, रोज ही मनाते हैं

(२)
जब-जब चलाई है, उसने बंदूकें तब
इस्तेमाल अपने ही, कंधे होते आये हैं

लूटपाट आगजनी, धूर्त्तता मक्कारी छल

सदा बड़े लोगों के ये, धंधे होते आये हैं
झूठ की दुकानदारी, बढ़ गई हर ओर
सच के व्यापार सब, मंदे होते आये हैं

आज भी हैं धृतराष्ट्र, सत्ता के आदर्श तभी
शासक सदैव यहां, अंधे होते आये हैं

8 comments:

Udan Tashtari said...

फुटकर भी गज़ब धांसूं है भाई!! आनन्द आ गया.

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

बहुत खूब!

योगेन्द्र मौदगिल said...

दोनों छंद अच्छे पर अभी समय लगेगा.. शुभकामनाएं..

Manish Kumar said...

aaj ke yug ki sachchai ko in chhandon ke madhyam se ubharne ka shukriya

कंचन सिंह चौहान said...

धर्म-धुरंधर और, वाहक परंपरा के
नागपंचमी तो हम, रोज ही मनाते हैं

bahut khoob Ravikanta Ji....!

नीरज गोस्वामी said...

बहुत खूब रवि जी...लिखते रहिये...
नीरज

गौतम राजरिशी said...

बहुत अच्छा प्रयास है रवि जी...आपकी सोच की उड़ान हमेशा मुझे अचंभित करती है

sa said...

AV,無碼,a片免費看,自拍貼圖,伊莉,微風論壇,成人聊天室,成人電影,成人文學,成人貼圖區,成人網站,一葉情貼圖片區,色情漫畫,言情小說,情色論壇,臺灣情色網,色情影片,色情,成人影城,080視訊聊天室,a片,A漫,h漫,麗的色遊戲,同志色教館,AV女優,SEX,咆哮小老鼠,85cc免費影片,正妹牆,ut聊天室,豆豆聊天室,聊天室,情色小說,aio,成人,微風成人,做愛,成人貼圖,18成人,嘟嘟成人網,aio交友愛情館,情色文學,色情小說,色情網站,情色,A片下載,嘟嘟情人色網,成人影片,成人圖片,成人文章,成人小說,成人漫畫,視訊聊天室,a片,AV女優,聊天室,情色,性愛